<< Newer
Articles
Older >>
Articles

आज मैं जीवन का सही मतलब जान गया !

Friday, August 22, 2008
सदियों से महान तत्वचिंतान्तकों के मन में यही सवाल उठता रहा है,
"आखिर जीवन का मतलब क्या है?"

आज मुझे इस गंभीर प्रश्न का उत्तर मिल गया है!
किसी भी ऊंची ईमारत की तल् मंजिल (Ground floor) और पहली मंजिल (First floor) को मिलाकर जो बनता है, बस यही जीवन (G 1) है!

शुक्रिया उस 'लिफ्ट' (Lift) का, जिसमें सफर करते वक्त उसके बटनों का नीचे से ऊपर तक अभ्यास करने से मुझे यह गहरे मर्म का साक्षात्कार हुआ

-स्टूपिडोसौर

(P.S: Hint: Ha Ha Ha)











<< Newer
Articles
Older >>
Articles

4 comments :

HP said...

hahaha ! (see, im following ur hint religiously!)

Urv said...

Iska matbal yeh hua ke yeh gyaan to sabse pehle Adnan Sami ji ki prapt hona chaiye tha.. Itni lift jo karte rehte hai woh.. :)

Nitin said...

swamiji ki jai hoon.. Classes kab se chaloo kar rahe hein .. aise bhi aajkal yeah dhandha India mein Jor-Shor se chal raha hein ..

Aur aapke case mein tu hum analogy bhi draw kar sakte hein .. Olden days mein siddhrathji ko tree ke nicche isse gyan ka ehsaas hua and 21st century mein aapko lift mein ...

Ketan said...

Fortunately, this once I didn't require the hint; just hope didn't miss anything!

Post a Comment

<< Newer
Articles
Older >>
Articles